Home » DRISHTIKON by Laxman Rao
DRISHTIKON Laxman Rao

DRISHTIKON

Laxman Rao

Published 2014
ISBN : 9789382276036
Hardcover
240 pages
Enter the sum

 About the Book 

यह पुसतक एक लघु शोधगरंथ है. इस पुसतक से हिंदी साहितय की चेतनातमक भूमिका में राषटरीय परेरणा परापत होती है. वरतमान समय में ऐसी पुसतकें अधययन व जञान परापत करने के लिए अति आवशयक हैं. पुसतक के सभी अधयाय अलग-अलग विषयों पर लिखे गए हैं जो साहितयकार लकषमण रावMoreयह पुस्तक एक लघु शोधग्रंथ है. इस पुस्तक से हिंदी साहित्य की चेतनात्मक भूमिका में राष्ट्रीय प्रेरणा प्राप्त होती है. वर्तमान समय में ऐसी पुस्तकें अध्ययन व ज्ञान प्राप्त करने के लिए अति आवश्यक हैं. पुस्तक के सभी अध्याय अलग-अलग विषयों पर लिखे गए हैं जो साहित्यकार लक्ष्मण राव की शुद्ध हिंदी भाषा में समाज के विविध रूपों को व्यक्त करते हैं.